ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi

0
662
ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi
ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi

ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi – यह नैतिक कहानी एक ब्राह्मण महिला और आम पर आधारित है। यह एक पंचतंत्र की नैतिक कहानी है जो नैतिकता के कार्यान्वयन के बाद आपके जीवन पर अद्भुत परिणाम देगी। मुझे उम्मीद है कि आप पूरी कहानी पढ़ेंगे और दी गई सभी जानकारी एकत्र करेंगे। और भी इसी तरह की नैतिक कहानी के लिए आप अन्य पोस्ट को भी देखें। पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए।

कहानी का नामब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi
कहानी के पात्रब्राह्मणी और नेवला

ब्राह्मणी और नेवला की कहानी के पात्र: Story Of The Brahmani & The Mongoose Story Characters

ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi
Brahmani – ब्राह्मणी
नामब्राह्मणी
रंगमध्यम रंग
आयु27 साल
ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi
Mongoose – नेवला
नामनेवला
रंगभूरा
आयु7 साल

ब्राह्मणी और नेवला की कहानी: The Brahmani & The Mongoose Story In Hindi

एक ब्राह्मण, उसकी पत्नी और उसका लड़का एक छोटे से गांव में रहते थे। उनके पास एक पालतू नेवला था जो उनके साथ रहता था। एक दिन, जब ब्राह्मण काम पर था, उसकी पत्नी ने बच्चे को पालने में छोड़ दिया और पानी का एक बर्तन लाने के लिए चली गयी ।

इसे भी पढ़ें –बिल्ली के गले में घंटी कौन बांधे नैतिक कहानी: Who Tied The Bell In The Cat’s Neck Story In Hindi

जब तक वह बाहर गई , उसने नेवले को बच्चे की देखभाल करने के लिए कहा। जब नेवला बच्चे की देखरेख कर रहा था, उसी समय घर में एक सांप आ गया। जैसे ही नेवले ने सांप को देखा उसने उस पर आक्रमण कर दिया और उसे मार दिया। जैसे ही ब्राह्मण की पत्नी पानी का बर्तन लेकर घर लौटी। नेवले ने उसके मुंह पर रक्त के साथ खुशी से उसका स्वागत किया। महिला उसे देख कर डर गई, और उसने सोचा कि नेवले ने बच्चे को मार दिया है।

बिना कुछ सोचे समझे घुस्से से, महिला ने नेवले पर पानी के बर्तन को गिरा दिया और एक छड़ी से उसे मार दिया। बाद में वह अंदर गई और बच्चा खुशी से पालने में खेलता मिला।कुछ भी बड़ा करने से पहले सोच समझकर कदम उठाना चाहिए। बिना किसी चीज को अपनी आँखों से देखे ना मानें।

कहानी से शिक्षा Moral of the Story [ The Brahmani & The Mongoose Story ]

  • कठिन सोचें और जल्दबाजी में कुछ भी न करें।
  • बिना पूरी जानकारी के कुछ भी न करें ।
  • गुस्से में फैसला न लें ।
  • ऐसा कुछ भी न करें जिससे आपको बाद में पछतावा हो ।

इसे भी पढ़ें – https://www.youtube.com/watch?v=Tqaqnb65NXc&t=1s

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here